Bollywood

खेती-किसानी नहीं अब व्यापार व्यवसाय



कृषक उद्यमी योजना में भी अब हर तरह के उद्योग लोन सीमा की कम, उम्र सीमा पांच साल बढ़ाई इंदौर।किसानों के पुत्र-पुत्रियों के लिए शुरू हुई कृषक उद्यमी योजना में अब हर तरह के उद्योग या सेवा क्षेत्र की कंपनी खोली जा सकेगी। इस योजना को लेकर नई गाइड लाइन जारी कर दी गई है। इसमें लोन सीमा को कम कर दिया गया और उम्र सीमा बढ़ा दी गई है।किसान उद्यमी योजना की घोषणा पिछले साल की गई थी। इसके लिए आवेदन करने की पात्रता उन्हें है, जिनके माता या पिता किसान हों। इसके लिए केवल कृषि आधारित फैक्टरी या सेवा क्षेत्र के प्रोजेक्ट को ही मंजूरी देने का प्रावधान किया गया था, लेकिन अब इसमें सभी तरह के उद्योगों को शामिल कर लिया गया है। ठीक युवा उद्यमी योजना की तरह। साथ ही लोन की न्यूनतम सीमा भी कम कर दी गई है। इन बदलावों को चुनावी साल में किसानों को लुभाने के एक और के रूप में देखा जा रहा है।ये हुए बदलाव1. पहले - उम्र सीमा 18 से 40 साल तक।बदलाव - उम्र सीमा 18 से 45 साल तक।2. पहले- लोन सीमा10 लाख से 2 करोड़ तक।बदलाव- लोन सीमा 50 हजार से 2 करोड़



तक।3. पहले - उद्योग एवं सेवा क्षेत्र से संबंधित कृषि आधारित परियोजनाएं।बदलाव- उद्योग, सेवा एवं व्यवसाय से संबंधित सभी प्रकार की परियोजनाएं। 4. पहले- आवेदन के लिए कृषि कल्याण, उद्यानिकी और खाद्य प्रसंस्करण, मछुआ कल्याण एवं मत्स्य पालन और पशुपालन विभाग।बदलाव- उक्त विभागों के अलावा एमएसएमई, पंचायत एवं ग्रामीण, नगरीय विकास एवं आवास, कुटीर एवं ग्रामोद्योग, अजाक, आजाक, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण, विमुक्त, घुमक्कड़ एवं अद्र्धघुमक्कड़ कल्याण विभाग। सरकारी अनुदान भी तगड़ा इसमें 15 फीसदी या अधिकतम 12 लाख का अनुदान सरकार देगी और सात साल तक पांच फीसदी ब्याज अनुदान भी, सात साल तक। परियोजना की पूंजीगत लागत पर सामान्य वर्ग के लिए अनुदान 15 प्रतिशत या अधिकतम 12 लाख है, वहीं बीपीएल वर्ग के लिए यही अनुदान 20 फीसदी या अधिकतम 18 लाख तक का है। वहीं ब्याज अनुदान में महिलाओं को 6 फीसदी की छूट मिलेगी।





RECENT POSTS

POPULAR POSTS

HOT POSTS

Related Post

Leave a Response

You need to Login to post comment

Comments