News

सरकारी मेडिकल कॉलेज का हब बनेगा बिहार, खोले जाएंगे पांच नए संस्थान



...

PATNA : बिहार अब सरकारी मेडिकल कॉलेज का हब बनेगा। राज्य में मेडिकल कॉलेजों की संख्या अब 25 हो जाएगी। जिसमें केन्द्र सरकार की सहायता से पांच मेडिकल कॉलेज मधुबनी, वैशाली, भोजपुर व सीतामढ़ी में खोले जाएंगे। जिसके लिए केन्द्र ने राशि आवंटित कर दी गई है। वहीं 76 सौ पारामेडिकल, सात हजार एएनएम व 600 डॉक्टर का पद सृजित किये गये हंै। साथ ही 558 दंत चिकित्सक की बहाली की प्रक्रिया भी पूरी कर ली गई है। ये बातें स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने रविवार को एनएमसीएच के ऑडिटोरियम में बिहार स्वास्थ्य सेवा संघ(भासा) द्वारा आयोजित आमसभा में कही। कहा कि राज्य में डॉक्टरों की कमी को पूरा करने के लिए सिविल सर्जन को अपने स्तर पर संविदा पर डॉक्टरों को नियुक्त करने को कहा गया है। सभी 538 पीएचसी पर एक एमबीबीएस डॉक्टर की प्रतिनियुक्ति निश्चित की गई है। ग्रामीण डॉक्टरों के वेतनमान


में 25 हजार तक की वृद्धि की गई है। अस्पतालों में एक्स-रे व लैब टेक्नीशियनों की कमी को देखते हुए 270 एक्स-रे टेक्नीशियन व 14 सौ टेक्नीशियन की बहाली की जा रही है।

आमसभा में निर्णय लिया गया कि पदाधिकारियों के चुनाव में जिला के सभी डॉक्टर अपना मत देंगे। डॉक्टर जहां पदस्थापित हैं। चुनाव अक्टूबर के पहले रविवार को होगा। जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन, एनएमसीएच के अध्यक्ष डॉ. रवि रंजन के नेतृत्व में डॉक्टरों ने अस्पताल को अपग्रेड करने की मांग रखी। आईएमए अध्यक्ष डॉ. सहजानंद, सचिव डॉ. अजय कुमार भाषा सचिव डॉ. रंजीत कुमार, अध्यक्ष डॉ. ज्ञान भूषण ने भी विभिन्न समस्याओं को मंत्री के समक्ष रखा।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अब सरकारी अस्पतालों में कैंसर, नेत्र व डायबिटिज मरीजोंं को मुफ्त दवाई मिलेगी। बीएमएसआईसीएल की सूची में इन दवाओं को सूचीबद्ध किया गया है। वहीं केन्द्र व राज्य सरकार की सहयोग से सभी अस्पतालों के लिए लाइव सपोर्ट एम्बुलेंस व शव वाहन की खरीदारी की जा रही है। केन्द्र सरकार ने इसके लिए 15 करोड़ रुपए उपलब्ध कराए हैं। .


आमसभा में निर्णय लिया गया कि पदाधिकारियों के चुनाव में जिला के सभी डॉक्टर अपना मत देंगे। डॉक्टर जहां पदस्थापित हैं। चुनाव अक्टूबर के पहले रविवार को होगा। जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन, एनएमसीएच के अध्यक्ष डॉ. रवि रंजन के नेतृत्व में डॉक्टरों ने अस्पताल को अपग्रेड करने की मांग रखी। आईएमए अध्यक्ष डॉ. सहजानंद, सचिव डॉ. अजय कुमार भाषा सचिव डॉ. रंजीत कुमार, अध्यक्ष डॉ. ज्ञान भूषण ने भी विभिन्न समस्याओं को मंत्री के समक्ष रखा।.





RECENT POSTS

POPULAR POSTS

HOT POSTS

Related Post

Leave a Response

You need to Login to post comment

Comments