News

सीइटी के सैकड़ों रोल नंबर में हो गई गड़बड़ी



- टेस्ट से एक दिन पहले मिले दोबारा डाउनलोड करने के मैसेज, भटकते रहे आवेदक   इंदौर. देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी की मंगलवार को होने वाली सीइटी (कॉमन इंट्रेंस टेस्ट) से एक दिन पहले सैकड़ों आवेदकों को बड़ी परेशानी से गुजरना पड़ा। परीक्षा की तैयारी में जुटे आवेदकों को उन्हें रोल नंबर में गड़बड़ी होने के मैसेज मिले। इसके बाद कई आवेदकों ने यूनिवर्सिटी में संपर्क किया। शाम तक कुछ ने दोबारा नए रोल नंबर डाउनलोड कर लिए।आइआइपीएस, आइएमएस सहित कई विभाग के प्रमुख कोर्स में एडमिशन सीइटी के जरिए दिए जाते हैं। पिछले साल सीइटी में बड़ी गड़बडिय़ां सामने आई थीं। परीक्षा से पहले ऑन्सरशीट लीक होने, कई सवालों के गलत जवाब के बाद यूनिवर्सिटी की साख को भारी नुकसान पहुंचा। इसके लिए परीक्षा कराने वाली एजेंसी को जिम्मेदार माना गया था। इसके बावजूद इस साल भी उसी एजेंसी को परीक्षा का काम सौंपा गया है। यूनिवर्सिटी का दावा था कि अब कोई गड़बड़ी नहीं होगी। लेकिन, सोमवार को हुई गड़बड़ी से जिम्मेदारों के भी हाथ-पैर फूल गए। सीइटी के सैकड़ों रोल नंबर में परीक्षा का समय ही गलत दर्शाया जा रहा था। कुछ आवेदकों ने वेबसाइट पर जारी समय और रोल नंबर में दिए समय में



भिन्नता की जानकारी सीइटी कमेटी को दी। इसके बाद ताबड़तोड़ यूनिवर्सिटी ने सुधार कराते हुए नए रोल नंबर डाउनलोड करने के मैसेज आवेदकों को करवाए। यह मैसेज देखकर आवेदक भी परेशान हो गए। कुछ ने यूनिवर्सिटी में संपर्क कर दोबारा डाउनलोड करने की वजह पूछी, लेकिन उन्हें संतोषजनक जवाब नहीं मिला। सीइटी कमेटी के अनुसार, एजेंसी की ओर से गड़बड़ी हुई है। उनसे वजह पूछी जा रही है। सुबह पेपर, दिन में बताया रिपोर्टिंग टाइम सीइटी चार ग्रुप (ए,बी,सी और डी) के लिए कराई जा रही है। टेस्ट से पहले बायोमैट्रिक उपस्थिति के लिए सभी को दो घंटे पहले रिपोर्टिंग करना है। ज्यादातर गड़बड़ी उन आवेदकों के रोल नंबर में हुई, जिन्होंने एक से ज्यादा ग्रुप के लिए आवेदन किया। ग्रुप सी का टेस्ट सुबह १० से ११.३० बजे होना है। रोल नंबर में इसका समय दोपहर २ से ३.३० बजे बताया है। इसी तरह ग्रुप बी का दोपहर २ से ३.३० बजे तक होने वाले टेस्ट का समय सुबह १० से ११.३० प्रदर्शित किया गया है। कुछ रोल नंबर में टेस्ट का समय गलत होने की जानकारी मिलने पर आवेदकों को मैसेज भिजवाकर संशोधित रोल नंबर डाउनलोड करने के निर्देश दिए है। गलती परीक्षा कराने वाली कंपनी ने की है।- डॉ.अनिल कुमार गर्ग, चेयरमैन, सीइटी कमेटी सीईटी में पिछले साल हुई गड़बड़ी के बाद यूनिवर्सिटी ने आश्वस्त किया था कि इस बार कोई चूक नहीं होगी। रोल नंबर गलत जारी होना शर्मनाक है। जिम्मेदार पर कार्रवाई कराएंगे। - आलोक डावर, कार्यपरिषद सदस्य  





RECENT POSTS

POPULAR POSTS

HOT POSTS

Related Post

Leave a Response

You need to Login to post comment

Comments